जहां ज्यादा पेड़, वहां ज्यादा बारिश क्यों ?

 


जहां ज्यादा पेड़, वहां ज्यादा बारिश क्यों ?


 प्रकाश संश्लेषण ( Photo synthesis ) की प्रक्रिया में कार्बन डाई ऑक्साइड लेने और ऑक्सीजन बाहर निकालने के दौरान पेड़ों और उनकी पत्तियों में मौजूद पानी वाष्प यानी भाप बनकर उड़ता रहता है , लेकिन यह प्रक्रिया हमें दिखाई नहीं देती । तेज गर्मी पड़ने पर समुद्र , नदी , झील का पानी सूर्य की तपिश से वाष्प बनकर उड़ जाता है । इसी वाष्पीकरण के कारण आसमान में बादल बनते हैं।


उन बादलों में पेड़ों से वाष्प बनकर उड़ने वाला पानी भी मिल जाता है । इससे बादल भारी हो जाते हैं और बरस पड़ते हैं , इसीलिए जिस स्थान पर पेड़ ज्यादा होते हैं , वहां पानी ज्यादा बरसता है । राजस्थान में पेड़ों की कमी है , इसलिए वहां बादल तो बनकर उड़ते हैं , लेकिन अक्सर पेड़ों द्वारा वाष्पीकरण की प्रक्रिया पूरी नहीं होने के चलते बादल भारी नहीं होते और हवा के साथ आगे निकल जाते हैं । माना भी जाता है कि जितने घने जंगल होते हैं , वहां उतनी ज्यादा बारिश होती है।


इन्फॉर्मेशन अच्छी लगी हो तो इस post को जरूर शेर करे। शेर करने से मोटिवेशन मिलता है। 

ऐसे ही पोस्ट को पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करे। 👇👇



Post a Comment

Previous Post Next Post