वर्ल्ड बैंबू डे - world Bamboo Day.

वर्ल्ड बैंबू डे - world Bamboo Day.

 वर्ल्ड बैंबू डे - world Bamboo Day.

आपको ना पता हो तो  हर साल 18 सितंबर को ' वर्ल्ड बैंबू डे ' अथवा विश्व बास दिवस मनाया जाता है। आखिर बास इतना खास क्यों है। और बैंबू डे क्यों मनाया जाता है आईए जानते है। 


वर्ल्ड बैंबू डे मनाने का उद्देश्य। 

यह दिन बांस के फायदों के बारे में जागरूकता बढ़ाने और रोजमर्रा के उत्पादों में इसके उपयोग को बढ़ावा देने के लिए मनाया जाता है। साल 2009 में बैंकॉक ( थाईलैंड ) में आयोजित 8 वीं विश्व बांस कॉन्ग्रेस ( World Bamboo Congress ) में वर्ल्ड बैंबू ऑर्गेनाइजेशन ने ऑफिशियल रूप से 18 सितंबर को ' वर्ल्ड बैंबू - डे ' मनाए जाने की घोषणा की थी।


वर्ल्ड बैम्बू ऑर्गेनाइजेशन " विश्व बांस संगठन ( World Bamboo Organization ) की स्थापना साल 2005 में हुई थी । " इसका मुख्यालय एंटवर्प ( बेल्जियम ) में है। इस दिन को सेलिब्रेट करने के लिए हर साल एक थीम तय की जाती है।


नेशनल बैंबू मिशन

यह कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय द्वारा वर्ष 2006 में बांस क्षेत्र के विकास के लिए केंद्रीय योजना के रूप में प्रारंभ किया गया । " बांस से बनी चीजों और बांस की खेती को बढ़ावा देने हेतु लोगों में जागरूकता लाने के लिए यह मिशन लॉन्च किया गया है।


बांस के द्वारा आकर्षक और मजबूत फर्नीचर , हैंडीक्राफ्ट आइटम , पानी की बोतल यहां तक कि ज्वेलरी भी बनाई जा रही है। प्लास्टिक का इस्तेमाल कम करने , बल्कि बंद करने के लिए बांस के द्वारा बनाई गई चीजों के बारे में लोगों को बताना इस मिशन का उद्देश्य है।


इसके अंर्तगत किसानों को बांस की खेती के लिए सब्सिडी भी दी जाती है। बांस के पेड़ दुनियाभर में पाए जाते हैं। अमेरिका , एशिया , अफ्रीका महाद्वीपों में बांस के वन मिलते हैं। बांस की करीब 1500 किस्में दुनियाभर में पाई जाती हैं। एशिया में भारत , चीन , जापान इत्यादि देशों में बांस के विस्तृत वन हैं। 


बांस का पौधा तेज गति से बढ़ता है। बांस की कुछ किस्में एक दिन में ही 1 मीटर तक बढ़ जाती हैं। बांस दुनिया का सबसे तेज गति से बढ़ने वाला पौधा है। बांस का पेड़ किसी भी प्रकार की जलवायु में लग सकता है, चाहे सूखे हों या ज्यादा बारिश वाले स्थान। बांस के पौधे को अलग से खाद देने की भी जरूरत नहीं होती, ये अपनी पत्तियों से ही खाद बना लेता है।


वर्ल्ड बैंबू डे - world Bamboo Day.

Post a Comment

0 Comments