8 अक्टूबर को भारतीय वायुसेना दिवस ( Indian Airforce Day ) मनाया जाता है।

8 अक्टूबर को भारतीय वायुसेना दिवस ( Indian Airforce Day ) मनाया जाता है।

 

8 अक्टूबर को भारतीय वायुसेना दिवस ( Indian Airforce Day ) मनाया जाता है। इस मौके पर आइए जानते हैं इंडियन एयरफोर्स के पास कौन - कौन से फाइटर जेट्स हैं ।

कब से मनाया जा रहा है।
8 अक्टूबर 1932 को जब भारतीय वायुसेना का गठन हुआ , तब इसका नाम रॉयल इंडियन एयर फोर्स था । सन् 1950 में इसका नाम बदलकर भारतीय वायुसेना कर दिया गया ।

इंडियन एयरफोर्स के पास ये अत्याधुनिक फाइटर जेट्स हैं

राफेल
राफेल फ्रांस की मल्टीरोल डेसॉल्ट एविएशन द्वारा डिजाइन और निर्मित लड़ाकू विमान है , जो 2020 में वायुसेना में शामिल हुआ । राफेल सिर्फ एक मिनट में करीब 60 हजार फीट की ऊंचाई तक जा सकता है , वहीं इसकी मारक क्षमता लगभग 3700 किलोमीटर है और यह 2200 से 2500 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से उड़ सकता है । राफेल जेट एशिया के सबसे ताकतवर लड़ाकू विमानों में से एक है । राफेल का राडार 100 किलोमीटर के अंदर एक बार में करीब 40 टारगेट का पता लगा सकता है।

तेजस
तेजस हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड ( HAL ) द्वारा विकसित एक सीट और एक जेट इंजन वाला फाइटर जेट है । यह लगातार हमला करने और सही निशाने पर हथियार गिराने में भी सक्षम है । तेजस वायुसेना के सबसे हल्के लड़ाकू विमानों में से एक है । ये एयरक्राफ्ट करीब 1850 किलोमीटर की रफ्तार से उड़ सकता है । इसकी सबसे बड़ी ताकत एयर टू एयर मिसाइल , लेजर गाइडेड मिसाइल और मेक इन इंडिया अस्त्र मिसाइल है।

सुखोई एसयू -30 एमकेआई 
यह लड़ाकू विमान रूस के सुखोई तथा भारत के हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड के सहयोग से बना है । सन् 2002 में इसे भारतीय वायुसेना में सम्मिलित कर लिया गया । 2004 से इनका निर्माण भारत में ही HAL द्वारा किया जा रहा है । इसमें 8000 किलो के हथियार रखने की भी क्षमता है । इसमें एयर टू एयर मिसाइल है , जिनमें एक्टिव , सेमी एक्टिव रडार और इन्फ्रा रेंज होमिंग क्लोज रेंज की मिसाइल शामिल हैं । इसकी अधिकतम गति लगभग 2100 किलोमीटर प्रतिघंटा है ।

मिराज 2000
मिराज 2000 मल्टीरोल , सिंगल इंजन और सिंगल सीटर वाला जेट है , इसे भी फ्रांस की डेसॉल्ट एविएशन ने बनाया है । आरडीवाई रडार व नए सेंसर और कंट्रोल सिस्टम का यूज करके कई निशानों को एक साथ साधा जा सकता है । यह हवा से जमीन और हवा से हवा में मार करने में माहिर है । यह पारंपरिक और लेजर गाइडेड बम को भी गिरा सकता है । इस फ्रेंच विमान की अधिकतम गति करीब 2495 किलोमीटर प्रतिघंटा है।

मिग -29
कारगिल युद्ध के दौरान पाकिस्तानी सेना को धूल चटाने में मिग 29 ( MIG - 29 ) फाइटर प्लेन ने काफी मदद की थी । इस फाइटर जेट की रफ्तार करीब 2445 किलोमीटर प्रतिघंटा है । यह विमान 5 मिनट में टेकऑफ कर सकता है , साथ ही हवा से हवा , हवा से सतह और हवा से समुद्र में वार करने में सक्षम है।

जगुआर
यह ट्विन इंजन , सिंगल सीटर वाला एयरक्राफ्ट है , इसकी स्पीड लगभग 1350 किलोमीटर प्रतिघंटा है । इसमें 30 एमएम की दो गन लगी हैं । इसके साथ ही इस विमान में अलग से 4750 किलोग्राम का सामान भी रखा जा सकता है , जैसे बम और फ्यूल आदि ।

डोर्नियर
ट्विन इंजन टरबोप्रोप वाला ये विमान लॉजिस्टिक एयर सपोर्ट स्टाफ ट्रांसपोर्ट है । इसे जर्मनी की कंपनी द्वारा बनाया गया है । इसमें लगभग 19 लोग बैठ सकते हैं । साथ ही इसमें करीब 2057 किलोग्राम का वजन लोड हो सकता है । इसकी अधिकतम गति 4283 किलोमीटर प्रतिघंटा है ।


Post a Comment

0 Comments