बारासिंगा - Barasingha के बारेमे कुछ मजेदार बातें।

बारासिंगा - Barasingha

 

बारासिंगा - Barasingha के बारेमे कुछ मजेदार बातें।

 

बारासिंगा एक हिरण की प्रजाति है।  यह जानवर भारत के साथ-साथ नेपाल में भी अधिक पाया जाता है।  इस जानवर की ख़ासियत इसके सींग हैं, जो बार की संख्या में हैं।  बारासिंगा उत्तरी और मध्य भारत में ज्यादा पाए जाते  हैं। हिरणों की यह प्रजाति गंगा के मैदानों में अधिक पाई जाती है। इसके अलावा जंगल मे भी देखने को मिल जाते है। 


बारासिंगा की तीन उप-प्रजातियाँ मौजूद हैं।  पश्चिमी बारासिंगा जो गंगा के मैदानों में और नेपाल में पाया जाता है।  दक्षिणी बारासिंघा जो मध्य प्रदेश में पाया जाता है और तीसरा उप-प्रजाति पूर्वी बारासिंगा है जो असम राज्य में देखने को मिलते है। 


बारासिंघा सींग। ( Barasingha )

इसके सिर पर बारह सींग होने के कारण इसे बारासिंगा के नाम से जाना जाता है।  इसके सिर पर लगभग बारह सींग होते हैं।  हालांकि कुछ बारासिंगा में बीस सींग होते हैं।  जबकि एक सामान्य हिरण के केवल दो सींग होते हैं।  बारासिंघा एक सामाजिक जानवर है जो समूह में रहता है।  वे एक झुंड में 20 से 30 सदस्य होते है।  झुंड में मादा बारासिंगा नर की तुलना में दोगुनी होती है।  कभी-कभी उनके झुंड में केवल नर होते हैं और कभी-कभी केवल मादा होती है।


बारासिंघा।

एक वयस्क बारासिंघा का वजन 150 से 200 किलोग्राम के बीच होता है। साथ ही उनकी ऊंचाई लगभग तीन से चार फीट होती है।  बारासिंगा एक सामान्य हिरण से बड़ा होता है। इस हिरण के गर्दन पर लंबे बाल होते है।  उनका रंग गहरा नारंगी या हल्का भूरा होता है।  नर बारासिंघा का रंग मादा की तुलना में चमकीला होता है।  बारासिंघा एक शाकाहारी जानवर है।  यह केवल घास-पत्तियों ही खाते  है।  यह जानवर बहुत पानी पीता है चाहे वह गर्म हो या ठंडा।  यह मुख्य रूप से पेड़ों की पत्तियों, टहनियों, फलों आदि का उपचार करता है।  वे पानी में उगने वाले पौधों को भी खा जाते है। 


शिकारी तेंदुए और बाघ जैसे जानवर उनके दुश्मन माने जाते हैं। इंसानों को भी बारासिंघा का दुश्मन माना जाता है। मनुष्य उन्हें अपने सींग और मांस के लिए शिकार करते हैं। 


बारासिंघा के बच्चे।

नर बारासिंघा मादा के साथ संबंध बनाने के लिए सींगों से लड़ता है। विजेता पुरुष बरसिंघा मादा के साथ संबंध बनाता है। नर एक मौसम में लगभग 30 से 40 महिलाओं के साथ सबंध बनाते हैं।  वे ज्यादातर गर्मियों के मौसम में संबंध बनाते हैं।  मादा बारासिंघा लगभग आठ महीने के गर्भ के बाद एक शावक को जन्म देती है। बारासिंघा मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश का राज्य पशु है। यह हिरण दिन भर चरता है। वे रात के मुकाबले दिन के दौरान अधिक सक्रिय होते हैं।


बारासिंघा का जीवनकाल।

 वर्तमान समय में बरसिंगा जानवर विलुप्त होने के कगार पर है। पहले यह जानवर एशिया के कई देशों में पाया जाता था लेकिन अब यह भारत और नेपाल तक सीमित है। उनका जीवनकाल लगभग पच्चीस वर्ष है।


इन्फॉर्मेशन अच्छी लगी हो तो इस post को जरूर शेर करे। शेर करने से मोटिवेशन मिलता है। 

इसे भी पढ़े।

 👇

Post a Comment

0 Comments