Bacchon ki kahani. Best story. प्रेरणादायक कहानी।

 

Bacchon ki kahani. Best story. प्रेरणादायक कहानी।

Bacchon ki kahani. Best story. प्रेरणादायक कहानी।

Kahani - 1

अदिति अपने माता - पिता की इकलौती संतान थी । वह सातवीं क्लास में पढ़ती थी । उसकी मम्मी हाउसवाइफ थीं और पापा सरकारी स्कूल में टीचर । अदिति पढ़ने में काफी होशियार थी । वह समय की पाबन्द थी और अपने सभी काम बिलकुल समय पर करती थी , किन्तु वैश्विक महामारी कोविड 19 और उसके बाद के लॉकडाउन की परिस्थिति के कारण उसका लाइफ स्टाइल ही बदल गया था । उसके पढ़ने से लेकर खाने - पीने और सोने - उठने का रूटीन भी डिस्टर्ब हो गया था। 


आज सुबह से ही अदिति काफी उदास थी । लॉकडाउन में वह प्रायः 8 बजे से पहले कभी भी सोकर नहीं उठती थी । अभी सुबह के करीब छह बज रहे थे । वह चुपचाप अपने बिस्तर से उठकर बाहर बालकनी में आ गई । कॉलोनी में अभी कोई भी नहीं जगा था । वह अपने घर की एक खिड़की से दूसरी खिड़की और एक दरवाजे से लेकर दूसरे दरवाजे पर खड़ी होकर बाहर देखती जा रही थी । तभी उसकी मम्मी बेड पर अपनी बेटी को अपने पास नहीं पाकर घबराकर बाहर की ओर भागी।


अदिति को इस तरह से अकेले परेशान देखकर उसकी मम्मी चिंतित हो उठीं । मम्मी ने पीछे से ही बहुत हलके से उसके कंधे पर अपना हाथ रखा और धीरे से पूछा , ' बेटी , क्या हुआ तुम्हें ? इतनी सुबह बाहर क्या कर रही हो ? क्या कुछ परेशानी है ? तुमने मुझे जगाया क्यों नहीं ? थोड़ी देर के लिए अदिति कुछ भी नहीं बोली । देखते - देखते उसकी आंखें डबडबा आईं , फिर खुद को संभालते बोली , “ मम्मी मैं क्या करूं , कुछ भी समझ में नहीं आता है।


 घूमने के लिए बाहर गए हुए हमें कितने महीने गुजर गए । दिनभर में मेरी ऑनलाइन क्लास के दो पीरियड होते हैं और फिर मैं बिलकुल खाली हो जाती हूं ... होमवर्क में भी बहुत कुछ करने के लिए नहीं होता है । साथ में खेलने के लिए भी कोई नहीं है । दिन - भर घर में रहते - रहते मैं बहुत बोर हो गई हूं " " बेटी , मैं तुम्हारी समस्या समझ सकती हूं , आखिर संकट की इस घड़ी में हम लोग कर ही क्या सकते हैं ? थोड़ा धैर्य से काम लेना होगा । इस तरह से घबराने से मन और भी विचलित हो जाएगा " , मम्मी ने अपनी लाड़ली बेटी को समझाने की कोशिश की।


 जब अदिति के पापा को अपनी बेटी की उदासी के बारे में पता लगा तो वे भी चिंतित हो उठे । फिर थोड़ी देर बाद वे अपनी बेटी के कमरे में आए , देखा कि वह अपने कंप्यूटर पर कुछ कर रही थी । पापा अदिति के पास ही बैठ गए , फिर बोले " देखो बेटी , आज पूरी दुनिया जिस संकट का सामना कर रही है , वह स्थायी नहीं है , कुछ समय के लिए है । जिस दिन इसकी रोकथाम के लिए वैक्सीन बन जाएगी , यह संकट भी खत्म हो जाएगा।


 दुनिया के कई देश और कंपनियां इस दिशा में तत्परता से कार्य कर रहे हैं और जल्दी ही इसमें सफलता मिलने की उम्मीद है " , पापा ने बड़े प्यार से अपनी बेटी को समझाया । " लेकिन यह तो कोई बात नहीं हुई ... आखिर तब तक मैं क्या करूं पापा ? बहुत बोरिंग लगता है , घर में मेरा मन जरा भी नहीं लगता है ...। " पापा थोड़ी देर के लिए शांत रहे और फिर उसे गले लगाते हुए बोले , “ अब तुमको जरा भी नहीं सोचना है । 


मैं अब अपने स्कूल के काम से फ्री होकर तुम्हारे साथ खेला करूंगा , हम लोगों के साथ तुम्हारी मम्मी भी खेल में भाग लेंगी , फिर देखना तुमको जरा भी बोरियत नहीं होगी " उसी समय पापा ने अदिति के कंप्यूटर में ऑनलाइन गेम्स के साथ साथ लूडो भी डाउनलोड कर दिए । मम्मी - पापा के साथ वह बहुत देर तक कैरम भी खेलने लगी , जिसमें उसे समय के बीतने का जरा भी अहसास नहीं होता था । शाम के समय उसके मम्मी - पापा घर के सामने लॉन में उसके साथ बैडमिंटन खेलने लगे । साथ ही वे खाली समय में घास - फूस और कचरे से भरे अपने किचन गार्डन की साफ - सफाई करने लगे । उन्होंने मौसम के अनुसार सब्जियां भी लगानी शुरू कर दीं।


 सब्जियों की देखभाल का काम सब लोगों के बीच बराबर बांट दिया गया । इन सभी कामों में अदिति को एक अलग तरह की खुशी मिलने लगी थी । वह बागवानी के इन सभी कामों को पहली बार कर रही थी और उसे वक्त का पता ही नहीं चलता था । समय के साथ अदितिको अब अपनी ऑनलाइन क्लासेस में भी मजा आने लगा था । मम्मी - पापा के साथ खेल - कूदकर उसके बोरियत के दिन भी खत्म हो गए थे । अपनी बेटी को खुश देखकर मम्मी पापा की खुशियों का ठिकाना नहीं रहा।


Kahani - 2


रोशन की मम्मी हमेशा समझाती “ बेटा पढ़ाई में ध्यान लगाओ , हमेशा मोबाइल से चिपके रहते हो " लेकिन रोशन पर कोई असर ही नहीं पड़ता था । हमेशा वादा करता कि अच्छी पढ़ाई करूंगा , लेकिन परिणाम वही ' ढाक के तीन पात ' । परीक्षा से पहले वह बड़ी - बड़ी बातें करता कि इस बार पेपर बहुत अच्छे मम्मी जानती थीं - ' अधजल गगरी छलकत जाय । 


रोशन अपने मम्मी - पापा का नाम रोशन करने की बजाय नाम के विपरीत उनका नाम बदनाम कर रहा था , जैसे ' आंख का अंधा नाम नैनसुख ' । मम्मी कहती - ' अपनी करनी पार उतरनी ' इसलिये पढ़ाई पर ध्यान दो । " मम्मी आप नहीं जानती ! टीचर मुझे जानबूझकर कम नंबर देती हैं , क्योंकि वे मुझे पसंद नहीं करतीं । " " यह क्या बात हुई ' उल्टा चोर कोतवाल को डांटे ? ' तुम ही जरूर कुछ शरारत करते होओगे , ' ताली एक हाथ से नहीं बजती । रोशन को याद आया , कक्षा में सीटी बजाने पर टीचर उससे नाराज थीं और होमवर्क न करने पर हमेशा उसे सजा देती क्योंकि उन्हें पता था , ' लातों के भूत बातों से नहीं मानते ' ।


 रोशन ने दादा जी के आने पर पूरी बात उन्हें बताई । दादाजी ने उसको प्यार से समझाया कि " बेटा मोबाइल ही जीवन नहीं है । इसमें अपना कीमती समय बर्बाद मत करो । तुम्हें पढ़ाई पर ध्यान देना चाहिए । शैतान बच्चों से दोस्ती मत करो , उनसे दोस्ती करो जो होशियार हैं , क्योंकि ' खरबूजे को देखकर खरबूजा रंग बदलता है ' । रोशन दादाजी की बात बहुत मानता था । उसने उनसे वादा किया कि आगे से वह पढ़ाई पर ध्यान देगा , अच्छी पढ़ाई करेगा । दादाजी खुश हुए , बोले बेटा " जब जागो तभी सवेरा " । दादाजी की सीख और प्यार उसके लिए ' डूबते को तिनके का सहारा ' बनी । अब उसने ठान लिया कि अच्छे नंबर लाकर दिखाएगा । फिर उसकी ' मेहनत रंग लाई ' और ' यथा नाम तथा गुण ' वाली का कहावत उस पर चरितार्थ हुई।

Bacchon ki kahani. Best story. प्रेरणादायक कहानी।


इसे भी पढ़े। 

मनुष्य की कीमत क्या है।

किसी बात से डरो मत।

जिंदगी का मतलब क्या है ?

जैसा करोगे वैसा पाओगे।

Post a Comment

0 Comments