अपने सच्चे मित्र से गद्दारी बहोत महेंगी पड़ती है। Bacchon ki kahani. Hindi story.

अपने सच्चे मित्र से गद्दारी बहोत महेंगी पड़ती है। Bacchon ki kahani. Hindi story.


अपने सच्चे मित्र से गद्दारी बहोत महेंगी पड़ती है। Bacchon ki kahani. Hindi story. Hindi kahani. शेर और तीन गाय की कहानी। 


 एक खेत था। उस खेत मे तीन गाय रहती थी। यह तीनों गाय अलग अलग रंग के थे। एक काले रंग का था, दूसरा सफेद रंग का था और तीसरा लाल रंग का था। यह तीनों गाय पक्के दोस्त थे। यह तीनो गाय जंगल के पास खेत मे रहती थी। किसी शिकारी जानवर का शिकार ना बन जाये इस लिए वो साथ रहती थी। एक दिन उस खेत मे एक शेर घूमते घूमते आया। उसने देखा कि इधर तीन गाय थी जिसका वो शिकार कर सकता था। इस लिए उसने रात होने का इंतजार किया। 


शेर ने शिकार करने का प्लान बना लिया। जैसे ही रात हुई तीनो गाय साथ मिलकर सो गई। शेर ने देखा कि तीनों गाय साथ में है, उसने सोचा कि अगर मेने शिकार किया तो तीनो गाय मेरे ऊपर हमला कर देंगे। इस लिए उसने उस दिन शिकार करने का प्लान केंसल कर दिया। दूसरे दिन से शेर उस गाय पर ध्यान देने लगा। तीनो गाय कहा जाती है, क्या करती है सब कुछ ध्यान रखने लगा। शेर ने देखा कि कोई शिकारी उसपे हमला ना कर दे इस लिए वो तीनि साथ रहती है। 


शेर ने दूसरा प्लान सोचा, और तीनो गाय को एक एक कर के शिकार करने का निर्णय लिया। अपने प्लान को सफल बनाने के लिए शेर गाय के पास दोस्त बन कर गया। शेर ने कहा ! कैसे हो सब लोग! में आपके पास के जँगल का राजा हु। मुझे पता चला है कि आप यहाँ रहने आये हो, इस लिये में आपसे मिलने आया हूं अगर कोई काम हो तो मुझे जरूर बताना। काली और सफेद गाय ने कोई उत्तर नहीं दिया, पर शेर की दयालु बात सुनकर लाल गाय खुश हो गया। शेर के जाने के बाद काली और सफेद गाय ने लाल गाय से कहा, कभी भी शेर हमारा दोस्त नहीं हो सकता। लाल गाय को दोनों की बात पसंद नहीं आई। लाल गाय ने शेर से दोस्ती आगे बढ़ाई। शेर रोज लाल गाय से मिलने आता। 

एक दिन शेर ने लाल गाय से कहा अगर यह दोनों गाय मर जाएगी तो में तुझे इस खेत की रानी बना दूंगी फिर तू अकेली इस खेत के घास को खाना। लाल गाय उसके बात में फस गई। उसने अपने प्रिय दोस्त को मरवा दिया। शेर ने पहले सफेद गाय को अपना भोजन बनाया और फिर काली गाय को। फिर गाय रोज खेत के घास को खाती। पर एक दिन शेर का भुख बढ़ गया। उसने लाल गाय को बुलाया और उसे कहा, अब में तुझे खाऊंगा। लाल गाय यह सुनकर डर गई, गाय ने शेर से बहोत रेकएस्ट की। पर शेर नही माना, उसने कहा में शेर हु। शेर कभी गाय का दोस्त नहीं बन सकता। उसे बहोत पछ्तावा हुआ, उसने अपने दोस्त के साथ गद्दार किया। उसके पास बचने का कोई रास्ता नहीं था। 


Post a Comment

0 Comments