किसी को देख के लालच नहीं करना चाहिए। Hindi kahani. लालच बुरी बला।

Hindi kahani.

किसी को देख के लालच नहीं करना चाहिए। Hindi kahani. लालच बुरी बला। 


धर्मपुर नामका छोटासा गांव था। गांव के पास हि एक जंगल था। गांव में सब छोटे मोटे काम कर के जीवन वीता रहे थे। धर्मपुर में रघु और मंगल नामका दो व्यक्ति रहता था। दोनो साप पकने का काम करते थे। दोनो अपने अपने वक्त पर जँगल में जाते और जहाँ पर साप दिखाई देता और उसे तुरंत पकड़ लेता। वो सापों को पकड़ के उसके मुंह से जहर निकाल के साँप को वापिस जंगल मे छोड़ आता। 


इसी तरह रघु और मंगल साँप का जहर इकठ्ठा करते और उसे पास के शहर में जाकर दवाखाने में जहर को बेच देते। दवाखाने वाले उस जहर को लेबोरेटरी को बेच देते। रघु और मंगल जहर बेच के अच्छे पेसे कमा लेते थे। 


एक दिन रघु जंगल में साँप खोज रहा था, अचानक  उसे सोनेरी पूछ दिखाई दी। रघु उस साँप को पकड़ के अपने बॉक्स में रख देता है। उसने सोचा कि इसका जहर बहोत ही कीमती बिकेगा। वो घर वापस आने लगा। चलते चलते उसे बहोत ही बड़ा भयानक सोनेरी साँप को देखा। रघु उसे देख कर डर गया। वो साँप बोलने लगा। तुमने मेरे बच्चे को पकड़ा है उसे छोड़ दो। रघु ने कहा में इसे जहर निकालने के बाद छोड़ ही दूंगा। साँप ने कहा हम जादुई साँप है। हमारे अंदर जहर नहीं होता। रघु ने कहा हमको मूर्ख समझा है क्या। अगर जादुई हो तो जादू बताओ। सापने कहा तुम्हे क्या चाहिए। रघु ने कहा तू साँप है तू जहर के अलावा क्या दे सकता है। 


सापने आंख बंद कर के सिर हिलाया तो उसके सामने सोने से भरी हुई मटका सामने आ गया। ये खजाना ले लो और मेरे बच्चे को छोड़ दो। रघु ने वो मटका ले लिया और वहां से घर चला गया। मंगल रघु को देखता है और उसे आश्चर्य होता है, रघु ने कोई साँप नही पकड़ा और वो बहोत खुश है और उसके सिर पे मटका है। मंगल रघुका पीछा करता है। रघु घर जाकर मटका अपनी पत्नी को दिखाता है। मंगल ये सब खिडकी से सब देख रहा होता है। रघु सारि बात अपनी पत्नी को बताता है, ओर ये बात मंगल सुन लेता है। वो तुरंत जंगल कीओर भगता है। और वहां सोनेरी साँप को ढूंढने लगता है। 


मंगल को एक सोनेरी पूंछ दिखाई दी, मंगल ने उसे खिंचा और भयानक साँप निकल के आ गया। मंगल डर गया। साँप बहोत ग़ुस्से में था। मंगल वहां से  भागने लगा। साँप ने उसका पीछा बहोत देर तक किया। मंगल घर के अंदर जाकर बन्द हो गया। मंगल हाथ जोड़कर भगवान से प्राथना करने लगा। मुझे सोना चांदी नहीं चाहिए। रघु ने जरूर झूठ बोला होगा।  ऐसा भयानक साँप कोई खजाना देता होगा? रघु जाने और उसका नसीब।


कहानी लिख के पैसे कमाने के लिए यहां क्लिक करे।

Click here 👉 Earn Money


Post a comment

0 Comments