एक अमीर सेठ की कहानी। Story of rich men. Motivational story in hindi. Hindi kahani.

Hindi kahani


एक अमीर सेठ की कहानी। Story of rich men. Motivational story in hindi. Hindi kahani.

Part : 1 में हमने देखा कि वो एक चबूतरा के पास जाकर बैठ गए थे और सोचने लगे थे। अब उसके आगे। 


वह चबूतरा के पास बैठ कर अपने बचपन को याद करने लगे। जब वह Struggle किया करते थे। जब life में कुछ नहीं था। वो सारे दिन याद आने लगे। सेठजी अपने ख्यालों में थे तभी वहां एक कुत्ता आया। और उनका एक चप्पल अपने मुंह में दबाकर भाग गया। सेठजी ने देखा तो वह फटाफट उसके पीछे भागा अपने चप्पल को छुड़वाने के लिए। सेठ जी को कुत्ते के पीछे भागते देख कर कुत्ते ने डर कर चप्पल मुंह से छोड़ दिया।


 सेठजी ने चप्पल पहना और अपने बंगले के तरफ जाने लगा। तभी उन्हें किसी के रोने की आवाज आने लगी। सेठ जी ने देखा तो एक झोपड़ी में से रोने की आवाज आ रही। किसी महिला की रोने की आवाज आ रही थी। तकरीबन सुबह के 4:00 बज रहे थे काफी देर हो चुकी थी। सेठजी ने सोचा कि क्या करूं जा करके पूंछू कि क्या बात है, या फिर अपने घर चले जाऊ। सेठजी ने सोचा कि अपने घर चलते हैं कहा लफड़े में पढ़ना है अपने काम से काम रखते हैं। सेठ जी ने अपने घर जाने के लिए चले चार पांच कदम आगे बढ़ाए।


 फिर मन में दूसरा ख्याल आया की एक बार  जाके पूछ तो लू पता तो कर लूं की बात क्या है। झोपड़ी के पास गए जाकर के झांक कर देखा तो वाकई में एक महिला रो रहि थी। झोपड़ी की जो दीवार थी उससे सर पटक पटक के रो रही थी। सेठजी ने हिम्मत करके दरवाजा खटखटाया। महिला ने दरवाजा खोला सेठजी ने सबसे पहले कहा बहन जी माफ करना गलत मत सोचना बस मैं यहां से गुजर रहा था आप के रोने की आवाज आई। क्यों रो रही है क्या बात है क्यों परेशान है। तो उस महिला ने बताया कि बाउ जी क्या बताऊं यहां पर देखिए 7 साल की बच्ची है सोई हुई है जमीन पर। ये बीमार है डॉक्टर कह रहै है कि इसके इलाज के लिए बहुत बड़ा खर्चा होगा लेकिन कोई मुझे पैसे नहीं दे रहा है।


 मदद करने के लिए तैयार नहीं है। तो सेठजी ने कहा इसमें रोने से क्या होगा। होने से थोड़ी ना पैसे मिल जाएंगे। रोने से थोड़ी ना कोई आपकी मदद कर देगा। और ये सुबह सुबह क्या रो रही है आप। इस से कुछ नहीं होने वाला आपको मदद मांगनी है तो आप जहाँ काम करते है वहाँ जाकर मदद मांगिये कहा काम करती हैं आप। तो उस महिला ने बताया कि में सबके घर घर जा करके झड़ू पोछा करती  हु। सेठजीने कहा कि उनसे मदद मांग लेती। रोने से कुछ नहीं होने वाला। तो उस महिला ने कहां की रो तो इस लिये रही थी की यहाँ से एक बाबाजी निकले थे उन्होंने कहा था कि बेटा कल........... 


एक अमीर सेठ की कहानी। Story of rich men. Motivational story in hindi. Hindi kahani.


Part: 1 👉  Click here


Telegram Join 👇


Post a comment

0 Comments