एक Builder की कहानी। Heart touching Motivational story in hindi. Hindi kahani.

Motivational story in hindi


Hindi kahani.

एक Builder की कहानी। Heart touching Motivational story in hindi.


 यह कहानी है एक बिल्डर की जो अपने कंस्ट्रक्शन साइट पर पहुंचा ऐसी कार से नीचे उतरा सिगरेट जलाने वाला था तभी उसकी नजर वहां काम कर रहे 10 से 12 साल के लड़के पर पड़ी। उसने देखा कि उसके कंस्ट्रक्शन साइट पर एक लड़का काम कर रहा है बाकी जवान मजदूरों के साथ ईंटे उठाकर के इधर से उधर पहुंचा रहा है 5 7 ईंटे वह नन्ना सा लड़का पूरे दमखम से लगा हुआ है। जैसे ही उस बच्चे को देखा तो उसने अपनी सीक्रेट जेब में रखें और दौड़ता हुआ उस लड़के के पास गया। 


और जा करके उसे डांटने लगा। ए छोटू तुझे काम पर किसने लगाए। यहां काम क्यों कर रहा है। उसके हाथ से ईंटे फिकवादी। उसे डांटते हुए दूर खींच के लाया। वह बच्चा रोने जैसा हो गया उसने कहा कि मुझे काम करने दो मुझे जाने दो मुझे अपना काम करना है मुझे मजदूरी चाहिए। व्यक्ति ने उस लड़के से पूछा कि तुम्हारे पिता कहां है तू यहां काम क्यों कर रहा है तेरा पिता एक काम कर रहा है साथ में। उस लड़के ने कहा नहीं। मेरे पिता तो काम कर रहे थे कुछ दिन पहले ट्रैक्टर में ईंटे लोड कर रहा था। तभी गिर गए पैर में चोट आ गई पैर टूट गया घर पर पड़ा हुआ है। मेरे पिता आ नहीं सकते इसीलिए मुझे आना पड़ा। वह छोटा बच्चा बिल्कुल बड़ों की तरह बात कर रहा था। इस व्यक्ति को और गुस्सा आने लगा उसने कहा कि तेरे पिता ने तुझे भेजा है तेरी मां ने भेजा है कीसने तुझे काम पर भेजा है।

Heart touching Motivational story in hindi.

 बिल्डर को उस व्यक्ति पर गुस्सा आ रहा था जिसने इस बच्चे को काम पर लगाया है। बच्चे ने कहा नहीं सर मेरे पिता ने मेरी मां ने मुझे काम पर नहीं भेजा। उन्होंने तो मुझे स्कूल भेजा था। मुझे तो स्कूल में खिचड़ी मिल जाती है लेकिन मेरे मम्मी पापा भूखे रह जाते हैं। उनके लिए उनके खाने का इंतजाम करने के लिए यहां काम कर रहा हूं मजदूरी कर रहा हूं। उस बच्चे ने जैसे ही यह सब बोला इस व्यक्ति की आंखों के सामने जिंदगी रिमाइंड हो गई। 


क्योंकि इसने भी भट्टे से ही काम शुरू किया था। ईंटो के भट्टे पर मजदूरी करता था। वहां से अपनी जिंदगी की शुरुआत की थी। आज शहर का सबसे बड़ा बिल्डर बन गया था। यह जो बिल्डर था इसने जो बच्चे की फ़टी शर्ट थी उसके ऊपर गारा लगा हुआ था मिट्टी लगा हुआ था उसे साफ किया और फिर से पूछा। तेरा मन लगता है पढ़ाई में स्कूल जाता है तो तुझे अच्छा लगता है। उस लड़के ने कहा हां सर बहुत अच्छा लगता है। मेरे जो क्लास टीचर है वह मुझे मॉनिटर बोलते हैं वह कहते हैं तू बहुत अच्छा लड़का है। फिर उस व्यक्ति ने कहा कि एक बात बता तुझे 1 से 20 तक के पहाडे आते है। उस लड़के ने बोला कि हां आते हैं। आप बोलो तो अभी लिख करके बता देता हूं। इस व्यक्ति ने कहा ठीक है लिख करके बताओ। वहां पर एक लकड़ी पड़ी थी उसने जमीन पर एक टेबल बनाई।10 से 15 मिनट में 1 से 20 तक के पहाड़े एकदम सही से ठीक से लिख दिए। फिर वह लड़का साइड में खड़ा हो गया उसके चेहरे पर मुस्कान थी ऐसा लग रहा था कि चैंपियन है वह। इस व्यक्ति ने उस छोटे से बच्चे को कहा कमाल कर दिया। तुमने तो मतलब कमाल कर दिया अब तुम घर जाओ। जैसे ही उस व्यक्ति ने कहा की अब तुम घर जाओ तब उस लड़के ने कहा कि सर मुझे मजदूरी करने दो। मेरा काम है ये अगर ये काम नहीं करूंगा तो मुझे पैसे नहीं मिलेंगे। उस व्यक्ति ने कहा कि बेटा तुझे मजदूरी नहीं मिलेगी। तुझे पगार मिलेगी जो तुझे मिल गई है 20 दिनों की।  

 क्योंकि तूने 20 तक का पहाड़ा लिख दिया। छोटे से लड़के ने कहा कि 20 दोनों की पगार मिलेगी यह पगार क्या होती है ? यह जो व्यक्ति था उसने उस छोटे से बच्चे को समझाया की बेटा मजदूर को मजदूरी मिलती है और तूने तो पढ़ाई लिखाई वाला काम किया है अपने टैलेंट वाला काम किया है अपने लायक वाला काम किया है इसलिए तुझे पगार मिलेगी। और यह बोल कर के वहा जो मुंशी काम कर रहा था उसे फटाफट से बुलाया। उसे डांट लगाई और कहा ये क्या तरीका है छोटा बच्चा काम कैसे कर रहा है। इस बच्चे का पिता का इलाज है जो करवाओ। इसके फादर जब ठीक हो जाए उसे काम पर लगवाओ। और इस बच्चे को घर भेजो। इसको 20 दिन की पगार दे कर भेजो। और उस छोटे से लड़के को फिर से बोला सुनो अब तुम 20 दिनों के बाद आना। और 40 तक के पहाड़े याद करके आना तुझे 40 दिन की पगार मिलेगी। छोटा सा बच्चा वहां से चला गया। यह बिल्डर भी अपने काम मे व्यस्त हो गया। 

एक Builder की कहानी। Heart touching Motivational story in hindi.

Post a Comment

0 Comments