Social Media में ज्यादातर पूछे जाने वाले सवाल। Social media or Real life.

Social Media में ज्यादातर पूछे जाने वाले सवाल।


Social Media में ज्यादातर पूछे जाने वाले सवाल। Social media or Real life.

मेरे Facebook Group में एक post आया था जिसमे लिखा था!  " चालान के रेट बढ़ाकर अगर दुर्घटना रोकी जा सकती है, तो फसल के रेट बढ़ाकर किसान की आत्महत्या क्यों नहीं रोकी जा सकती। " ये Question आया था। और उस पर 150+ Comments आये थे। और सबने Comment में हा ही लिखा था।

में आपको बता दु की किसान और सैनिक मेरे favourite कामदार है। में इन दोनों की दूसरों की मुताबिक सबसे ज्यादा मान ओर सम्मान देता हूं।

अब बात करते है हमारे प्रश्न की। ये जो प्रश है वो सिर्फ Social media पर ही लोग उसकी अच्छे अच्छे बातें करते है। और जब बात real life की आती है तो उस बात को कोई सुनता भी नहीं है और देखता भी नहीं है। 90% लोग ऐसे है जो Social media पर अच्छी अच्छी बातें करते है, real life में बहोत ही कम लोग है जो उन लोगो की मदद करते है। आजकल Social media दिखावे ज्यादा हो रहे है।

बात रही इस प्रश्न की तो अगर किसान लोग ने फसल की रेट बढा दी तो, ये जितने भी लोग है वो सभी कहेंगे गलत है। हो गई बात! बीच मे जब प्याज ( Onion ) का भाव बढा था तो आपको पता ही होगा कि क्या हुआ था। सारि जगह एक ही बात चल रही थी गलत हुआ गलत हुआ। और सच्चाई यही है। ये जितने भी लोग है सब दिखावे करने वाले real life में किसी की मदद करो तो जाने की कोन कितना भला है। खाली Social media पर मैसेज करने से कुछ नहीं होगा। आधे लोग तो अपने आपको बहोत ही अच्छा होने का दिखावा करते है। और हकीकत में वो होते है टेढ़ा।

मुझे एक ओर Comment आया था। कि Sir ये जो Motivational quotes, or Motivational stories या Images जो होती है ये सिर्फ Social media या video में ही अच्छे लगते है। में बता दु की जितने भी लोग ऐसे है या ऐसा सोचते है उसके अंदर भलाई नाम का कोई चीज नहीं होता या तो उसके दिमाग मे ज्यादा सोचने की क्षमता विकसित नहीं हुई है। अगर कोई बुद्धिमान होता तो ऐसा प्रश्न नहीं पूछता। और में बता दु की मदद करने वाले मदद कर रहे है। वो लोग किसी की नही सुनते। वो सिर्फ अपने आप की सुनते है। किसी की मदद या भलाई करना सीखा नही जाता वो अपने आप मे विकसित होता है। Social media में ज्यादातर फेकू लोग ही होते है। जो अपने आप को अच्छा साबित करते है।

मुझे उम्मीद है के ये टॉपिक आपको समझ मे आ गई होती। अगर इस पोस्ट के रिलेटेड कोई प्रश्न हो तो आप हमें Comment कर के पूछ सकते है। और Giveaway में Participate करना ना भूले। ज्यादा जानकारी के लिए Home page पर visit करे।


हमारे वेबसाइट पर visit करने के लिये धन्यवाद।

इसे भी पढ़े।

पैसो की जरूरत भगवान को नहीं बल्कि गरीब और भिखारियों को हे।

Post a Comment

0 Comments