पैसों की जरूरत भगवान को है या गरीब को ? Motivational speech. By pkmotivation.

Motivational quotes in hindi.

पैसों की जरूरत भगवान को है या गरीब को ? Motivational speech. By pkmotivation.

 एक गाँव था। उस गाँव मे रमेश ओर परेश नाम के दो लड़के रहते थे। दोनों एक दूसरे के पडोशी थे। रमेश और परेश दोनों साथ मे एक दिन मंदिर में पूजा करने जाते है। दोनों एक दुकान से साथ मे मिठाई लेते है। दोनों मिठाई लेके मन्दिर में जाते है। पर जाते जाते परेश मन्दिर के बाहर बैठे भिखारी लोगो को देखता है और अंदर चला जाता है। रमेश मन्दिर में मिठाई का 25% भाग मन्दिर में चढ़ा देता है। और परेश 1% भी नहीं चढ़ता। रमेश कहता है परेश तुमने प्रशाद क्यों नहीं चढ़ाया? रमेश कहता है इतना सारा तो है। फिर भी। आगे चल पता चल जाएगा। वो दोनों मन्दिर के बाहर आते है और परेश जो भिखारी मन्दिर के बाहर बैठे थे उन सब मे बाँट देता है। रमेश देखता रहता। रमेश कहता है अब घर क्या लेके जाएगा। परेश उसके सामने देख कर स्माइल देता है। दोनों घर जाते है।

 रमेश ओर परेश के पापा दोनों साथ मे बैठ कर बात कर रहे थे। तभी दोनों आते है। रमेश परेश के पापा से कहता है, अंकल अंकल ये परेश ने अपनी सारी मिठाई मन्दिर के बाहर बैठे भिखारियों में बाँट दिए। परेश के पापा कहते है। शाबास मेरे बेटे! तुमने आज बहोत बडा काम किया है। तुमसे गरीबो की भूख देखी नही गई इस लिए तुमने ऐसा किया। मुझे तुम पर गर्व है। रमेश के पापा शर्मिंदा हो जाते है।

हम सभी लोग मन्दिर जाते है। पर मन्दिर में दान करना ये कहा का नियम है। कई लोग मन्दिर में बहोत पैसे चढा देते है। पर क्या सच मे पैसे चढ़ाने की जरूरत है। भगवान कभी हमसे कहा है कि आप पहले पैसे दो तभी आपकी इच्छा पूरी होगी। हकीकत में पैसो की जरूरत भगवान को नहीं बल्कि गरीब को हे। कभी एक बार सोचा है कि ये जो गरीब लोग या भिखारी जो होते है, खाना या पैसे मांगने कभी मन्दिर के अंदर भगवान के पास नहीं जाते। ये आप लोंगों के पास ही आते है। क्योंकि इसे पता है भगवान के पास जाने से हमारी इच्छा पूरी नहीं होगी। सिर्फ हमी नहीं समझते। इच्छा पूरी करनी है तो उसके जैसा काम और महेनत करो। किसी के भरोसे मत रहो। 

अगर मेरी बात आप मेसे किसी एक कोभी समझ मे आती है तो मेरा ये post लिखने ना मतलब सफल हो गया ऐसा में मान लूंगा। अच्छा लगा हो तो अपने दोस्तों के साथ जरूर Shere करे।

Thanks for Reading.

इसे भी पढ़े।

Post a Comment

0 Comments