दीवाली के बारेमे मेरी छोटी सी कहानी। Happy diwali.

motivational stories,

दीवाली के बारेमे मेरी छोटी सी कहानी।  Happy diwali.


Hello friends
दिवाली का त्योहार भारत में सबसे बड़ा त्योहार हे। दिवाली की त्योहार के बाद भारत में नए साल का शुरुआत होता है। ये तो सब को पता है।

पर मुख्य पॉइंट ये हे की ।
दिवाली में फटाके जलाना किसको नहीं पसंद । बहोत ही कम लोग हे जो फटाके नही जलाते / डरते  भी हे। में भी नही जलता । नही जलाते उसकी तो बात ही अलग है। जो जलाते  उसकी बात है, फटाके तो जलाना चाहिए। इस में कोई गलत बात नही है। दिल से सोचो की फटाके के पीछे ज्यादा खर्च करना सही है। फटाके जलाना मतलब पैसे को फाड़ना बराबर है। जलाओ पर फटाके में पैसे कम बर्बाद करो।

कई लोग मुझे कहेंगे मेरे पास ज्यादा पैसे हे तो क्या करे?
अगर उतना ही पैसा हे तो , किसी गरीब लोग को दे दो। आप फटाके जलाते हो उसमे आप को खाली आनंद आता है ,ख़ुशी होती है , पर पैसे  नहीं मिलते , वैसे ही आप उन पैसो से गरीब लोगो या बच्चो में बाँट दो तो उसमें आप को फटाके जलाने से जितना मजा आता है! उस से ज्यादा मजा आएगा। एक बार जरूर कोशिस करना। इससे आप अपने मन में ही नही , दूसरे की नजर में भी ऊँचे लगोगे। लोग आप की रिस्पेक्ट करेंगे।

पैसे देने चाहिए?

जितना हो सके उतना मिठाई , कपड़े या अनाज या खाने की चीजें ही दान करे , पर पैसे कभी नहीं देने चाहिए । आप को नही पता की वो पैसे का सही इस्तेमाल करेंगें या गलत । इस लिए पैसे मत दो उसके अलावा जो आप को देना हो वो दे सकते हो।

Giveaway Contest join

ओर हा इस वेबसाइट में एक giveaway सुरु होने वाला है तो आप लोग उसमे जरूर पार्टिसिपेट करना। ज्यादा जानकारी के लिए ऊपर थ्री लाइन पे क्लीक करे।

 Thanks for reading. And shere your friends.

Note:- अगर आप को कहि भूखे गरीब लोग मिल जाए तो please दोस्तो उसकी मदद जरूर कर देना।
आप के ₹10 से आप को कुछ फर्क नही पड़ेगा पर एक इंसान का पेट भर जाएगा।


Post a comment

0 Comments